33 C
Lucknow
September 30, 2020
Janta ka Safar
उत्तर प्रदेश

10 तारीख को आयोजित होगा प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस

गाज़ियाबाद।  प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान (पीएमएसएमए) इस बार 10  अगस्त को चलाया जाएगा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा. एनके गुप्ता की ओर से इस संबंध में जनपद के समस्य चिकित्सा अधीक्षक और प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए हैं। सीएमओ की ओर से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि नौ  अगस्त को अवकाश होने के चलते अभियान का आयोजन 10 अगस्त को किया जाएगा।

सीएमओ ने निर्देश दिए हैं कि 10 अगस्त को यह अभियान कंटेनमेंट जोन को छोड़कर जनपद की अन्य सभी स्वास्थ्य इकाइयों में चलाया जाएगा। उन्होंने दूसरी और तीसरी तिमाही की गर्भवती महिलाओं का आह्वान किया है कि उस दिन अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचकर अभियान का लाभ उठाएं। उन्होंने कंटेनमेंट और बफर जोन की गर्भवती महिलाओं को न बुलाने के निर्देश दिए हैं। सभी महिलाएं स्वास्थ्य केंद्र में आवश्यक रूप से मास्क पहनकर ही पहुंचें, साथ ही उनके स्वास्थ्य केंद्र में प्रवेश करने पर हैंड वाश/सेनेटाइज कराया जाए। ध्यान रहे कि स्वास्थ्य केंद्र में ग्रुप काउंसलिंग नहीं की जाएगी, सभी गर्भवतियों को काउंसलिंग के लिए एक-एक कर बुलाया जाएगा।

इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन हरगिज न होने पाए, इस बात की जिम्मेदारी चिकित्सा अधीक्षक/ प्रभारी चिकित्सा अधिकारी की होगी। सीएमओ ने कहा हमारी प्राथमिकता गर्भवती महिलाओं के गर्भ के द्वितीय और तृतीय माह में कम से कम एक बार स्त्री रोग विशेषज्ञ अथवा एमबीबीएस चिकित्सक की देखरेख  में प्रसव पूर्व जांच कराना है। दूसरी प्राथमिकता पर पीएमएसएमए दिवस में स्वास्थ्य केंद्र पहुंचने वाली सभी गर्भवती महिलाओं के हिसाब से स्वास्थ्य कर्मियों की तैनाती सुनिश्चित करना है ताकि प्रसव पूर्व  जांच शत-प्रतिशत सुनिश्चित की जा सके। सभी गर्भवतियों की ब्लड प्रेशर, वजन और रक्त व पेशाब की जांच भी आवश्यक रूप से की जाए।

आशा को कम से कम दो गर्भवतियों को लाने का लक्ष्य पीएमएसएमए दिवस में हर आशा को कम से दो एएनसी जांच लाभार्थी को स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचना है। इसके लिए ब्लॉक प्रोसेस मैनेजर (बीपीएम) को निर्देशित किया गया है कि वह ब्लॉक स्तर पर आशा और आशा संगिनी की बैठक कर पीएमएसएमए दिवस पर एनएनसी जांच में वृद्घि कराना सुनिश्चित करें। सभी चिकित्सा अधीक्षक/ प्रभारियों को पीएमएसए दिवस पर चलाए गए अभियान का खुद आकलन करते हुए 11 अगस्त तक पोर्टल पर रिपोर्ट अपलोड करने के निर्देश दिए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान गर्भवती महिलाओं को प्रसव पूर्व देखभाल की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए शुरू किया गया है। इस अभियान के तहत लाभार्थियों को हर माह की नौ तारीख को जांच और दवा समेत प्रसव पूर्व देखभाल की सेवाएं उपलब्ध कराई जाती हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से पीएमएसएमए की शुरुआत सन 2016 में की गई थी।  ​

Related posts

59 वर्षीय ‘साइकल मैन’ कृष्णानंद राय की कहानी , सीएम योगी भी हैं इनके मुरीद..

admin

भगवान् बना शैतान, रो रहा इंसान – ​देखें वीडियो ​

admin

Corona Epidemic : गिलोय का करें सेवन, कई रोगों से मिलेगी मुक्ति

admin

Leave a Comment