33 C
Lucknow
September 30, 2020
Janta ka Safar
देश दुनिया प्रमुख खबरें

दुर्गापूजा में खलल डालेगा भूकंप, भूवैज्ञानिकों ने जताई आशंका ​

कोलकाता​ ​। दुर्गापूजा के लिए विश्व विख्यात कोलकाता में इस‌ बार पूजा के समय भूकंप की आशंका है। बताया गया है कि अब कोलकाता से बैठे भूवैज्ञानिक पूर्वोत्तर के लोगों को भी जमीन के अंदर होने वाले परिवर्तन से सावधान कर सकेंगे।

भूकंप की आशंका को देखते हुए जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) ने पश्चिम बंगाल के कूचबिहार और झारखंड के रांची में नए जीपीएस मैपिंग स्टेशन बनाने का निर्णय लिया है।

इन दोनों स्टेशनों पर बहुत जल्द काम भी शुरु कर दिया जाएगा। पूर्वोत्तर भारत में समय-समय पर आने वाले भूकंप से पश्चिम बंगाल, बिहार, असम, नगालैंड, उत्तर प्रदेश, सिक्किम, उतराखंड, नेपाल को काफी नुकसान हुआ है। हालांकि कोलकाता, भुवनेश्वर और पटना से संचालित ग्लोबल पोजशनिंग सिस्टम (जीपीएस) से पूर्वी भारत के भूलोक के पल-पल के डेटा और चित्र कोलकाता में केंद्रीय सर्वरों में अपलोड और एकत्रित हो रहे हैं।

कूचबिहार और रांची में स्थापित होने वाले इन दोनों नए स्टेशनों से भूकंपीय गति का निर्धारण करना और आसान हो जाएगा।और सटीकता के साथ चित्र भी लिए जा रहे हैं और उसे प्रकाशित किया जा रहा है।

आशंका है कि इस साल अक्टूबर महीने के अंतिम सप्ताह में होने वाली दुर्गापूजा के आसपास बंगाल भी भूकंप के बड़े झटके हो सकते हैं। हालांकि डॉ संदीप कुमार सोम, डीडीजी, जिओ-डायनेमिक्स डिवीजन के मुताबिक भूकंप के विशिष्ट समय के बारे में कोई भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। इस मुद्दे पर दुनिया भर में अनुसंधान चल रहा है; इसलिए यह कहना मुश्किल है कि दुर्गापूजा से पहले बंगाल में भूकंप होगा या नहीं। लेकिन यह पता लगाया जा सकता है कि कौन से क्षेत्र भूकंप के प्रति संवेदनशील या अतिसंवेदनशील हैं। जीएसआई के पास फिलहाल 30 जीपीएस स्टेशन हैं जहां स्टैपिंग मैपिंग का निर्माण किया जा रहा है। यह एक सतत प्रक्रिया है, इसलिए हम अभी निष्कर्षों के बारे में ज्यादा कुछ नहीं कह पाएंगे। कोई भी भूकंप के लिए एक विशिष्ट समय नहीं बता सकता है। हम केवल संभावित क्षेत्रों का पता लगाने की कोशिश करते हैं, जहां यह हो सकता है। यदि कोई बड़ा भूकंप आता है, तो यह निश्चित रूप से पर्यावरण को बड़े पैमाने पर प्रभावित करेगा, लेकिन पर्यावरण परिवर्तन से भूकंप का होना संदिग्ध हैं।

उल्लेखनीय है कि चक्रवात अम्फन से हुई एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की क्षति  और कोरोना संक्रमण से बिगड़ी सामाजिक और आर्थिक स्थिति से बंगाल अभी तक उबर नहीं पाया है। इस बीच बंगाल में भूकंप आने की आशंका ने लोगों के दिलों में डर पैदा कर दिया है।

Related posts

UP : मारने के लिए जिंदा मिट्टी में दफना दिया गया नवजात, अस्पताल में चल रहा इलाज

admin

Bigg Boss 13 controversy : सिद्धार्थ के 13वें सीजन के विजेता बनने से सलमान नाराज, सीजन 14 को किया होस्ट करने से इंकार ?

admin

माहिरा शर्मा पर लगा नकली सर्टिफिकेट बनाने का आरोप, हो सकती है कानूनी कार्रवाई

admin

Leave a Comment